जानिए वे 5 गुण जो एक क्लासिकल डांसर के लिए आवश्यक है

1,634 Views 1 Comments

आप किसी भी क्षेत्र की बात कर लीजिए, किसी भी स्थिति या किसी भी संबंध की; हमारे जीवन में हम जिस भूमिका का निर्वाह करते हैं, उसे सर्वोत्तम सिद्ध करने के लिए हमारे भीतर कुछ कुशलता या गुण होना बहुत ज़रूरी है! इस कुशलता या गुण की चाह में हम अक्सर किताबें पढ़ते हैं या उन लोगों के बारे में बात करते हैं, उन लोगो को सुनते हैं, जिनकी तरह हम बनना चाहते हैं – चाहे बात अच्छा इंसान बनने की हो, अच्छा दोस्त, अच्छी माँ / पिता, अच्छा नागरिक, अच्छा कर्मचारी या कोई भी, लेकिन उस भूमिका में हम ‘अच्छा’ बनना चाहते हैं। इसी तरह अच्छा कलाकार बनने के लिए; हममें कुछ गुण होना आवश्यक है! आइए उन कुछ महत्वपूर्ण गुणों की चर्चा करते हैं जिसकी अपेक्षा किसी भी शास्त्रीय नर्तक से की जाती है। ये गुण उस व्यक्ति को अच्छा कलाकार बनाने में मददगार हो सकते हैं, न केवल उस कला में जिसका वह अभ्यास कर रहा है बल्कि सामान्य रूप से प्रदर्शनकारी कला के क्षेत्र में भी ये गुण उसकी मदद करेंगे…

1. धीरज

शास्त्रीय कला के क्षेत्र में करियर बनाने या अपने आप को स्थापित करने की इच्छा रखने वाले किसी भी साधक की यह सबसे महत्वपूर्ण और बुनियादी गुणवत्ता है।

जैसे ही आप अपना नाम किसी शास्त्रीय नृत्य के वर्ग में लिखवाते हैं, तो ख़ुदबख़ुद आप अपना नाम उस संस्था में लिखवा चुके होते हैं जो आपको ‘धैर्य’ धारण करना सिखाता है। किसी भी शास्त्रीय कला को सीखने का कोई क्रैश कोर्स नहीं होता है, और न ही कभी हो सकता है, क्योंकि शास्त्रीय कला ‘साधना’ से आती है, जो समर्पण, अभ्यास और तप माँगती है, ताकि उस विधा को सही तरीके से सीख सकें और करियर बनाने में सक्षम हो सकें…

बॉलीवुड नृत्य जैसे कुछ अन्य नृत्यों या कुछ भारतीय और पाश्चात्य लोकनृत्यों या सामाजिक नृत्य प्रकारों की तरह (जिनमें आपको लघु पाठ्यक्रम के अंत में मंच पर प्रदर्शन करने का मौका दिया जाता है), शास्त्रीय नृत्य में नहीं होता.. यहाँ छात्र को मंच पर प्रदर्शन करने के लिए सही समय तक धैर्य बनाए रखने की ज़रूरत है। भरतनाट्यम में ‘अरेगंत्रम्’ परंपरागत रूप से मंच पर छात्र द्वारा पहला स्वतंत्र प्रदर्शन होता है और यह तब दिया जा सकता है जब गुरु को लगता है कि छात्र कला प्रदर्शन का यह पहला कदम उठाने के लिए पूरी तरह से तैयार हो चुका है। ‘अरंगेत्रम’ आमतौर पर उस नृत्य शैली में कठोर अभ्यास के न्यूनतम 7/8 साल के प्रशिक्षण के बाद किया जाता है। इसी तरह अन्य सभी शास्त्रीय नृत्यों में भी छात्र / शिष्या को सही समय और मंच प्रदर्शन का मौका पाने के लिए धैर्य रखने की आवश्यकता होती है। कुछ कठिन रचनाओं या तोड़ों / टुकड़ों में महारत हासिल करने के लिए भी धैर्य बनाए रखना ज़रूरी होता है। इतना ही नहीं जब आप शास्त्रीय नृत्य क्षेत्र में अपना करियर शुरू करते हैं, तब भी आपको धैर्य की आवश्यकता होती है- अपने नियमित रियाज़ के लिए या कक्षाएँ संचालित करने के लिए सही जगह मिलने तक धैर्य रखना होता है, फिर अच्छे छात्र पाने के लिए, प्रदर्शन के अवसर के लिए, और कभी-कभी किसी प्रोजेक्ट को पूरा करने के बाद उसका मानधन प्राप्त करने के लिए भी धैर्य रखना होता है !!!

तो मित्रो, ज़ाहिरन, यदि आप नृत्य के क्षेत्र में अपने आप को बनाए रखना और खुश होना चाहते हैं; धैर्य को सफलता की कुंजी मानकर चलिए है!

2. रचनात्मकता और तात्कालिकता

यह कहने की ज़रूरत ही नहीं है कि शास्त्रीय नृत्य का क्षेत्र रचनात्मक क्षेत्र है! रचनात्मकता को वस्तुनिष्ठ तरीके से सिखाया नहीं जा सकता बल्कि इसे तो निरंतर रियाज़ से तराशा जाता है। शास्त्रीय नर्तक को प्रस्तुति, किसी रचना की कोरियोग्राफ़ी, प्रकाश योजना, मंच सज्जा, वेशभूषा आदि विभिन्न परिकल्पनाओं पर रचनात्मक तरीके से सोचना होता है और ऐसा करते हुए उसे एकरसता से भी बचना होता है। किसी भी नई रचना का बीज उसकी रचनात्मकता में है। वह नर्तक जो रचनात्मक है वह बेहद अच्छे से जानता है कि दर्शकों को पूरी नृत्य प्रस्तुति के दौरान अनूठा अनुभव दिलवाते हुए किस तरह से बाँधे रखा जा सकता है। रचनात्मकता के साथ शास्त्रीय नर्तक में तात्कालिकता होना भी बहुत ज़रूरी है। तात्कालिकता नर्तक को उस वक़्त की परिस्थितियों के साथ सामंजस्य बैठाने का हुनर देती है और ऐसा करते हुए भी वह रचनात्मकता का ख़ुले दिल से स्वागत करता है। कभी-कभी प्रदर्शन से ठीक पहले या उसके दौरान कुछ अपरिहार्य / अप्रत्याशित चीजें हो जाती हैं जो कलाकार की सहजता का परीक्षण करती है। उदाहरण के लिए, टीम का कोई सदस्य शो के दौरान न आ सकें, मंच उतना बड़ा न हो जितना कि उसे होना चाहिए, कपड़े बदलने के लिए उचित कमरे न हो, आवश्यक पर्याप्त प्रकाश व्यवस्था न हो, संगीत तंत्र खराब हो जाए या कोई अन्य तकनीकी कठिनाइयाँ खड़ी हो सकती है और कलाकार के लिए यह जानना जरूरी है कि ‘शो होना ही चाहिए!’ ऐसे समय में, नर्तक को सहज होना चाहिए और स्थिति की मांग के रूप में प्रदर्शन में बदलाव करने में सक्षम होना चाहिए। ऐसा करते समय किसी भी तरह से कलाकारों का प्रदर्शन या मूड प्रभावित नहीं होने देना चाहिए। नर्तक, जो रचनात्मक और सहज हैं, सभी बाधाओं के खिलाफ खेल जीतेंगे और फिर भी प्रदर्शन के हर हिस्से में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन देंगे !!!

3. टीम भावना

समर्पित और कड़ी मेहनत करने वाले व्यक्तियों की टीम के बिना कोई भी काम या प्रोडक्शन सफल नहीं हो सकता है – भले ही वह कोई एकल प्रदर्शन ही क्यों न हो! शास्त्रीय नर्तक को टीम के साथ मिलकर काम करते आना चाहिए, खासकर जब लाइव संगीत पर प्रदर्शन करने की बात आती है। नर्तक का साथी कलाकारों-गायक, और संगतकारों (हार्मोनियम, तबला, मृदंगम, सितार, बांसुरी, सरोद इत्यादि वादक ) के साथ समन्वय होना चाहिए और साथ ही सभी संगतकारों के साथ समन्वय रखने और टीम के रूप में काम करने की क्षमता होनी चाहिए। शास्त्रीय नर्तक को टीम के अन्य सदस्यों के कामों जैसे सह-नर्तकों/ नर्तकियों, लाइट ऑपरेटर, कैमरामैन, सेट डिज़ाइनर इत्यादि की अच्छी समझ की भी आवश्यकता होती है। केवल जब नर्तक टीम का अच्छा खिलाड़ी होता है और उसमें विश्वास होता है -टीम ‘हम’ की अधिक होती है और ‘मैं’ की कम, तब नृत्य प्रदर्शन या प्रोडक्शन सुचारू रूप से चलता रहता है और ऊँचाई तक पहुंच जाता है !!

4. समर्पण, जुनून और कड़ी मेहनत

आप किसी भी क्षेत्र में काम करते हैं या आपकी जो भी भूमिका होती है; यह गुण हमेशा आपको लंबी दूरी के रास्ते पर ले जाएगा! लेकिन ख़ासकर शास्त्रीय कलाओं/ शास्त्रीय नृत्य के क्षेत्र में; समर्पित, भावुक और कड़ी मेहनत करने वाले नर्तकों/ नर्तकियों का मूल्य अधिक होता है… जब तक कि आप अपने कला के बारे में ‘वास्तव में’ भावुक नहीं हैं.. आप कड़ी मेहनत और ऊर्जा उस कला में नहीं झोंक पाएँगे या उस क्षेत्र में खुश नहीं रहेंगे जहाँ आप काम कर रहे हैं… जुनून के साथ; कला के प्रति आपका समर्पण, आपके अपने विकास के समर्पण जितना ही महत्वपूर्ण है। आप जो ऊर्जा और समय दे रहे हैं उसके बदले तत्काल परिणाम या सुविधाएँ नहीं मिल सकती हैं जो कला को सीखते हुए और आगे बढ़ने के लिए निवेश की गई हो। लेकिन यह महत्वपूर्ण है कि आप अपनी अंतर्निहित प्रेरणा को मजबूती से बनाए रखें और नतीजे पर ध्यान दिए बिना अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते रहें। समर्पण और जुनून इस यात्रा में नर्तक की मदद करेगा और मुश्किल समय का सामना करने के लिए व्यक्ति को तैयार भी करेगा। समर्पित और भावुक कलाकार को भी बेहतर प्रदर्शन के लिए कड़ी मेहनत की आवश्यकता होती है, जो उसे लंबे समय तक इस क्षेत्र में बने रहने के लिए उपयोगी होगा। नियमित और कठोर ‘रियाज़’ नर्तक को कौशल, नृत्य तकनीकों में पूर्ण होने में मदद करता है और मुश्किल रचनाओं में भी हुनरमंद होता है। रियाज़ करना हर प्रदर्शनकारी कलाकार और नर्तकों के सामने काफी स्पष्ट बात है; जो कड़ी मेहनत कर रहे हैं और हर दिन अपनी रियाज दिनचर्या का पालन करते हैं, उन अन्य नर्तकों से बेहतर निखरकर दिखते हैं जो अपने दैनिक अभ्यास को लेकर बहुत खास या मेहनती नहीं हैं। सफलता का कोई शॉर्ट कट नहीं होता है !! इस प्रकार, ये कुछ आवश्यक गुण हैं जिससे नर्तक सफल करियर बना सकता है और खुश, संतुष्ट नर्तक हो सकता है….

5. संवाद कुशलता

यह मार्केटिंग का युग है और जो लोग खुद को बाजार में रखते हैं, वे इस बढ़ती प्रतिस्पर्धी दुनिया में बेहतर बने रहते हैं। शास्त्रीय नृत्य क्षेत्र में भी उसका कोई अपवाद नहीं है! आपको अपना काम और अधिक लोगों, अधिक संभावित आयोजकों, (जो आपको विभिन्न नृत्य उत्सवों में प्रदर्शन करने का मौका दे सकते हैं) तक पहुंचाने के लिए संवाद/ संचार और नेटवर्किंग में अच्छा होना चाहिए, अब तकनीकी दुनिया में, हमें पत्रों, व्यक्तिगत बैठकों और फोन कॉल से लोगों से संवाद करने की आवश्यकता नहीं है; लेकिन हम दुनिया में किसी के साथ संवाद करने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म और ईमेल का उपयोग कर सकते हैं। नर्तकों को अपने काम और नेटवर्क के बारे में अधिक लोगों के साथ संवाद करने के लिए ऐसे प्लेटफॉर्म का अच्छा उपयोग करने के लिए प्रशिक्षित होने की आवश्यकता है… कई बार, आपको अपना काम पूरा करने के लिए संचार शुरू करने की आवश्यकता है !! ऐसा करते हुए बहुत सारे नर्तक ऊब जाते हैं या आलसी होते हैं, और इसलिए अक्सर महत्वपूर्ण अवसरों से चूक जाते हैं… इसलिए, प्रचार और विपणन के उचित प्लेटफार्मों के माध्यम से शास्त्रीय नृत्य शैलियों को बढ़ावा देने के लिए यह सीखना होगा और उसके बस एक घंटे की आवश्यकता है !!

खैर, ये केवल कुछ महत्वपूर्ण गुण हैं जो शास्त्रीय नर्तक में होना चाहिए, लेकिन खुद बेहतर बनाना और अपने व्यक्तित्व में नए कौशल जोड़ते जाना सतत प्रक्रिया है… अनुभव और सीखने के साथ, नर्तक हमेशा अपनी सूची में और अधिक गुण जोड़ते चले जाते हैं …

( तेजाली कुंटे द्वारा लिखित 5 Important qualities a classical dancer should possess का भावानुवाद )

One Comment

  1. अच्छा और मानीखेज आलेख है , जो लगभग हर कला क्षेत्र में लागू होता है

    Reply

Leave a Comment

Connect with:




Your email address will not be published.